• image

'स्वच्छ भारत आभियान'

         

'स्वच्छ भारत आभियान' माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रारम्भ की गई, भारत सरकार की स्वच्छता की मुहिम ह.   इसे विशेष रुप से 'महात्मा गांधी' की जन्म शताब्दी वर्ष में प्रारम्भ किया गया क्योंकि उन्होंने ही देश को स्वच्छ बनाने का सपना देखा था . यह तभी संभव ह जब भारत में रहने वाला प्रत्येक व्यक्ति इस आभियान को अपनी जिम्मेदारी समझे, तथा इस मिशन को सफल बनाने में अपना योगदान दे.

          माननीय प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत आभियान की पहल और गृह मंत्रालय द्वारा जारी दिशा निर्देशों के आधार पर महनिदेशक महोदय द्वारा, बल के अन्य आधिकरियों और कर्मचरियों के साथ मिलकर एसएसबी में इसका प्रारम्भ किया गया. भारत-नेपाल सीमा और भारत-भूटान सीमा पर एसएसबी की फील्ड यूनिटों द्वारा भी इसे अपनाया गया.

          स्वच्छ भारत पर माननीय प्रधानमंत्री की अपील को एसएसबी बल मुख्यालय तथा सभी फील्ड यूनिटों द्वारा आत्मसात किया गया तथा स्वच्छ भारत की शपथ ली.

 

          एसएसबी बल मुख्यालय तथा भारत-नेपाल और भारत-भूटान पर एसएसबी की स्थापनाओं तथा जहा भी एसएसबी स्थित ह, सभी ने इस दिशा में निम्न कदम उठाए हैं:-

1.   सभी एसएसबी कर्मिकों को स्वच्छता की शपथ/प्रतिज्ञा दिलवाई गई.

2.   'स्वच्छ भारत' आभियान में बल मुख्यालय और सभी फील्ड यूनिटों द्वारा पूरी निष्ठा से योगदान दिया जा रहा है. एसएसबी की सभी स्थापनाओं को सप्ताह में एक बार, दो घंटे     लगातार 'श्रमदान' करने के निर्दश दिए गए हैं. एसएसबी बल मुख्यालय, में भारत सरकार     के दिशा निर्दशों के अनुसार 1530 से 1745 बजे तक प्रत्येक शुक्रवार सफाई की जाती है.

3.   स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत एसएसबी बल मुख्यालय ने आर. के. पुरम स्थित 'जीवन दीप कुष्ठ आश्रम' को गोद लिया तथा वहा सफाई कराने तथा जन चेतना कार्यक्रम जसे   महिलाओं के लिए शौचालय का निर्माण, चिकित्सा शिविर लगाना, कंबलों, कपडों,  भोजन आदि के वितरण का बीड़ा उठाया.

 

एसएसबी फील्ड यूनिटों द्वारा स्वच्छ भारत आभियान के अंतर्गत स्थानों तथा पर्यटक स्थलों   को निम्नानुसार गोद लिया गया ह:-

क) सेक्टर मुख्यालय पीलीभीत (उ0प्र0) ने गुरुद्वारा नानक माता सहिब पीलीभीत (उ0प्र0) को      गोद लिया.

ख) सेक्टर मुख्यालय अल्मोड़ा (उत्तराखंड) ने चितई गोलू देवता मंदिर अल्मोड़ा (उत्तराखंड) को गोद लिया.

ग) 29वीं वाहिनी एसएसबी खपरल (पश्चिम बंगाल) ने बी ओ पी सन्डकफू (पश्चिम बंगाल) को गोद लिया.

घ) 43वीं वहिनी पटटन (जम्मू और कश्मीर) ने हज़रत शेख अहमद किरमानी दरगाह पटटन (जम्मू और कश्मीर) को गोद लिया.

ड) 9वीं वाहिनी बलरामपुर (उ0प्र0) ने विभूति नाथ मंदिर बलरामपुर (उ0प्र0) को गोद लिया.

च) एम टी सी शिमला (हि0प्र0) ने  संकट मोचन     मंदिर शिमला (हि0प्र0) को गोद लिया.

छ) 64वीं वाहिनी अलवर (राजस्थान) ने ढोलागढ़ मंदिर, लक्ष्मणगढ़, अलवर (राजस्थान) को गोद लिया.

ज) 65वीं वाहिनी जामनगर (गुजरात) ने रोज़ी माता मंदिरजामनगर और सिद्धिविनायक  मंदिर, जामनगर (गुजरात) को गोद लिया.

झ) 51वीं वाहिनी सीतामढ़ी (बिहार) ने जानकी मंदिर, सीतामढ़ी (बिहार) को गोद लिया.

ञ) 67वीं वाहिनी शमशी (हि0प्र0) ने बिजली महादेव मंदिर, शमशी और मनाली शमशी    (हि0प्र0) को गोद लिया.

 

ह मंत्रालय के दिशा निर्देशों के अनुसार, एसएसबी बल मुख्यालय तथा फील्ड यूनिटों    द्वारा भारत-नेपाल सीमा और भारत-भूटान सीमा पर, स्वच्छ भारत आभियान के अंतर्गत निम्न काम किए गए:-

i)       एसएसबी कर्मिकों तथा एसएसबी की स्थापनओं के समीप रहने वाले ग्रामीणों को     सफाई तथा स्वच्छता के विषय में सचेत करना.

ii)      सभी SSB यूनिटों के परिसर पर सफाई व स्वच्छता की स्थिति में सुधार आया है.  कूड़ा फेकने के लिए कूड़ेदान का प्रयोग करने की आदत कर्मिकों में पदा की जा रही है.

iii)     SSB की सभी यूनिटों में जगह-जगह पर कूड़ा फेकने के लिए कूड़ेदान रखे गए हैं.

iv)     सभी स्थापनाओं में महिलाओं के लिए पर्याप्त मात्रा में अलग शौचालय बनाए गए हैं.

v)      इस बात का प्रयास किया गया ह कि जहा तक संभव हो, शौचालयों में चलते पानी की व्यवस्था हो.

vi)     यह सुनिश्चित किया जाता ह कि रसोई अथवा परिसर में कहीं पर भी पानी एकत्रित न हो   जिससे मच्छरों के प्रजनन को रोका जा सके तथा मलेरिया/डेंगू जसी खतरनाक बीमरियों   से बचाव  हो सके.

vii)    यह भी सुनश्चित किया जाए कि वरिष्ठ आधिकारी तथा कमांडेंट, एसएसबी द्वारा गोद लिए गए स्कूलों का दौरा भी करें तथा वहा छात्रों व अध्यापकों के साथ मिलकर स्वच्छता कार्यक्रम    चलाएं.

viii)   श्रेणी के आधार पर कूड़ेदानों के लिए अलग-अलग रंग सुनिश्चित किए गए हैं, तथा इनका प्रयोग किया जा रहा है.

ix)      शौचालयों की नियमित सफाई, कीटाणुनाशक तथा दुर्गंधनाशक छिड़काव सुनिश्चित किया     गया ह, साथ ही पानी के पाइप और उनके जोड़ों की नियमित जाच की जा रही ह जिससे   जल रिसाव और बर्बादी को रोका जा सके.

x)       नलियों की सफाई नियमित रुप से हो रही ह तथा पानी के टेंक समय-समय पर साफ किए जा रहे हैं.

xi)      नलियों और आस-पास के क्षेत्रों में मच्छरों के प्रजनन को रोकने के लिए छिड़काव किया जा रहा है.

xii)     कारिडोर की सफाई की जा रही ह तथा रास्तों को साफ रखने के लिए अलमारी आदि हटाई     जा रही हैं.

xiii)    मेस के आस-पास के क्षेत्र को नियमित रुप से साफ किया जाए. खाना पकाने के स्थानों पर     एक्जास्ट पंखे और चिमनी लगाई गई हैं.

xiv)    पुराने रिकार्ड का नष्टीकरण समय-समय पर किया जा रहा ह जिससे कार्यालय में फाइलों    की अत्यधिक भीड़-भाड़ से बचा जा सके.

xv)     टूटे और पुराने फर्नीचर की या तो मरम्मत की जा रही ह अथवा उन्हें अनुपयोगी घोषित कर उन्हें नीलाम किया जा रहा है.

 

उपरोक्त के आतिरिक्त समय-समय पर SSB मुख्यालय और इसकी फील्ड स्थापनाओं ने   सफाई और स्वच्छता के लिए निम्न कार्यक्रम चलाए हैं.

क)  विश्व शौचालय दिवस- 19.11.2014 .

ख)  सप्ताह पर्यन्त सफाई कार्यक्रम 22.06.2015 से 26.06.2015.

ग)  राय स्वच्छता आभियान 29.09.2015 से 31.10.2015.

घ)  विशेष स्वच्छता आभियान 18.12.2015 से 27.12.2015.

ङ)   स्वच्छता पखवाड़ा 01.01.2016 से 15.04.2016.

च) स्वच्छता पखवाड़ा 16.05.2016 से 31.05.2016.



Back
SSB Helpline Number:- 1903 (Toll Free)      Recruitment Helpline Number:-(011) 26193929
आगंतुक संख्या : 6137746